सावरे












चित्र साभार गुगल



नटनागर सावरे नैना हो गए बावरे
मीठी मुरलिया कि तान सुना
ओ नटनागर............

जाऊं कभी यमुना तो पीछे- पीछे आए रे
देख के अकेली मेरी मटकी गिराए रे
कैसा ये छलिया ने जादू डाला
ओ नटनागर............
किसी दिन बांसुरी मैं तेरी चुराऊँगी
चूम - चूम होठों से सीने से लगाऊँगी
कैसा ये मुरली ने जादू डाला
ओ नटनागर............

आराधना राय "अरु"


Comments

Popular posts from this blog

मीरा के पद

तेरी मुरलिया सुन

भक्ति रस