राधा- कृष्णस्वप्न सलोने

Image result for कृष्ण राध          स्वप्न सलोने देने वालो सपनों का आकाश बनालो
                                                                        धीर-धरम को रीत  बना कर, सपने की आस जगलो।।
                                                                       
                                                                         कंचन देह बना के देखि सुमन ,सुधा,हर्षा के भी देखे
                                                                        पैरों के कांटे भी देखे, हाथो के छाले दुख के भी देखे।।
                                                                       
                                                                       रूप नवल है ,सोने जैसा,हो जाना है मिटटी के जैसा
                                                                       कर्म- विधान इक अपना लो, जीवन को कर्मठ बना लो।।
                                                                           

                                                                          आराधाना राय अरु

Comments

Popular posts from this blog

मीरा के पद

श्याम

भक्ति रस