गीतों की बाती




Image result for krishna image





आंसुओं से पग पग धो कर कब से आई रे
गीतों की बातीआसुओं की माला पहनाई रे
जिन नयनों से किया दरस पिया का
आजहू रो - रो के मन के दिए जलाए 
क्यों मन को अब कोई ठोर ना दिखता
बावरा हो कर मन आस क्यों जगाए रे
मिटटी की मूरत माटी की गति ही पाए
रह गया मन के संबधो का पतला धागा
सब कुछ स्मृति के नीर से बहता जाए रे
पागल मनवा सुनता नहीं निज मन की
आंसुओं से पग पग धो कर कब से आई रे
गीतों की बातीआसुओं की माला पहनाई रे
आराधना राय अरु

Comments

Popular posts from this blog

मीरा के पद

श्याम

भक्ति रस